अघोरी तांत्रिक क्रिया साधना

tantricremedy   April 13, 2019   Comments Off on अघोरी तांत्रिक क्रिया साधना

अघोरी तांत्रिक क्रिया साधना

अघोरी बाबाओं का नाम आते ही हम सब के मस्तिष्क मे एक अलग तरह ही तस्वीर बन जाती है। उनकी जीवनशैली आम लोगों से बेहद अलग होती है। कुछ लोग इनके रहन-सहन से डरते भी है। अघोरी जो किसी चीज़ मे भेद-भाव नहीं करते है। उन्हे श्मशान, लाश, मुर्दे के मांस व कफन किसी चीज़ से परहेज़ नहीं होता, जोकि आम लोगों के लिए बहुत अजीब होती है। लोगों को अघोरियों से डर तो लगता है, पर क्या आप जानते है की अघोरी का मतलब होता है अ+घोर यानी जो घोर नहीं है। यानि डरावना नहीं होता है।

अघोरी तांत्रिक क्रिया साधना

अघोरी तांत्रिक क्रिया साधना

इस विधि के बारे मे बताने से पहले हम आपको मंत्र बता देते है। जोकि इस प्रकार है “ॐ नमो आदेश भैरवाय,काली के पुत आवे आवे चिंते चिंताये,कार्य सिद्ध् करावे,दुहाइ काली माइ की”। सबसे पहले आप काले रंग के एक आसन को बिछाकर उसपर बैठ जाए और दक्षिण दिशा की ओर मुंह रहें। इस विधि को करने के लिए आपको काली मिट्टी से बना एक मटका चाहिए होगा, जिसमे शमशान की बभुती डालनी होगी। फिर इसके ऊपर कपुर की टिकिया रखे। अब 21 बार बताए मंत्र का जाप करें और जाप पूरा होने के बाद मटके मे काली मिर्ची के कुछ दाने व लौंग रखे। अब एक सफ़ेद रंग के कागज़ पर उस व्यक्ति का नाम लिखे जिसे आप वश मे करना चाहते है। ध्यान दे नाम आपको काली स्याही से ही लिखना होगा। अब एक काले कपड़े से मटके के मुंह को करे व उसके सामने मिठे तेल का दिया जला दे। इसके बाद बताए मंत्र का रुद्राक्ष या काले हकिक की माला से 11 माला जाप करे। यह सब कर लेने के बाद आपको मटके को शमशान भूमि मे ही एक गड्डा खोदकर दबा देने होगा। ध्यान दे की अमवस्या के दिन इस उपाय को आप करें। इस मंत्र विधि की मदद से आप किसिकों भी अपने वश मे कर सकते है।

अघोरी वशीकरण

अघोरी तांत्रिक की एक मंत्र विधि है जिसे आप किसी भी मंगलवार या शनिवार के दिन शुरू कर सकते है। करना यह है कि कृष्णपक्ष कि रात मे सबसे पहले एक आसन बिछाकर उसपर बैठ जाए। आसन लाल या काले रंग का होना चाहिए। अपने सामने श्वेत फूलों की माला, एक मिट्टी के कुलहड़ में देसी शराब के साथ मिठाई–नमकीन भी रख दे। इसके बाद गूगल की धुप करे और कडुवे के तेल का दीपक जला दे। फिर इस मंत्र का नित्य 11 माला जाप करें। मंत्र है: “आडू देश से चला अघोरी, हाथ लिये मुर्दे की झोली, खड़ा होए बुलाय लाव, सोता हो जागे लाव, तुझे अपने गुरु अपनों की दुहाई, बाबा मनसा राम की दुहाई”। जब 11 माला जाप पूरा हो जाए तो सारी चीजों को कहीं चौराहे पर या पीपल के पेड के नीचे चुपचाप रख आए। इसके बाद आपको उस जगह 7 दिन तक नहीं जाना चाहिए।

हम आपको एक अन्य वशीकरण मंत्र बता रहें है। जिस मंत्र को आपको एक स्टील या लोहे की थाली पर काजल से लिखना होगा। मंत्र लिखने के लिए अपनी उंगली का इस्तेमाल करें। मंत्र है: “शिवे वश्ये हुं वश्ये “अमुक” वश्ये हुं वश्ये शिवे वश्ये वश्य्मे वश्य्मे फट”। अपने सामने भगवान शिव की तस्वीर रखे। अब थाली मे उस व्यक्ति का कोई कपड़ा रख दे, जिसे आप अपने वश मे करना चाहते है। ध्यान दे कि कपड़े पर सिंदूर की मदद से उस व्यक्ति का नाम लिखना न भूले। भगवान शिव की तस्वीर के सामने अब उस व्यक्ति की तस्वीर को रख बताए मंत्र का रुद्राक्ष या काली हकीक की माला से 51 बार जाप करे। ध्यान रखे की मंत्र मे जहां अमुक शब्द है उसकी जगह उस व्यक्ति का नाम बोले। इस विधि को पूर्ण करने के बाद आप जल्द परिणाम देख पाएंगे की कैसे वो व्यक्ति आपसे  वशीभूत होने लगा है।

अघोरी वीर साधना

यदि आप किसी स्त्री से बेहद प्रेम करते है और उसे अपनी ओर आकर्षित करना चाहते है तो उसके लिए यह सरल सा उपाय आप कर सकते है। सबसे पहले से स्नान करने के बाद एक शांत एकांत कमरे मे आसन बिछाकर बैठ जाए। आपका मुंह पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए। आपको यहाँ 3 पान के पत्तों की ज़रूरत पड़ेगी। साथ मे एक मंत्र जान ले, जिसकी मदद से आपको इन्हे अभिमंत्रित करना होगा। मंत्र है: “श्रीराम नमः रबेलियः अकनः कबीरी”। 21 बार मंत्र का जाप करे। फिर पान के पत्ते को अभिमंत्रित करके यह उस स्त्री को दे दे। लगातार 3 बार इस काम को करें। ऐसा करके आप देख पाएंगे की कैसे वो स्त्री आपकी ओर आकर्षित होने लगी है।

पावरफुल अघोरी मंत्र

यदि आप धन से संबंधित समस्या से झूझ रहे है तो इस उपाय को करें। जिसमे आपको चन्दन पाउडर, हल्दी, नारियल, फूल और एक कलश की ज़रूरत होगी। विधि को शुक्रवार के दिन करें।  मंत्र है: “ॐ गजाननं भूतगणादि सेवितं कपित्थ जम्बूफलसार भक्षितम। उमासुतं शोक विनाशकारणं नमामि विघ्नेशवर पादपडंकजम”। अब सबसे पहले तो आप चन्दन, हल्दी व गंगाजल को मिलाकर अपने दाएं हाथ की तर्जनी उंगली की मदद से पान के पत्ते पर स्वस्तिक का चिन्ह बना दे। इसके बाद पत्ते पर 5 लौंग और थोड़े से चावल रखे और बताए मंत्र का रुद्राक्ष की माला से 86 बार जाप करें। अपने घर के मुख्य द्वार पर दोनों तरफ स्वस्तिक का चिन्ह बना दे। इसके बाद सारी चीजों के साथ पत्ते को लपेट दे और नदी मे बहा आए।

अघोरियों से बेशक बहुत लोग डरते हो, पर साथ मे यह भी बात सत्य है कि अघोरी तांत्रिक क्रिया साधना काफी असरदार है। जो लोग इसपर विश्वास करते है, उनके लिए ऊपर बताए गए उपाय मददगार होते है। वैसे हम आपको बता दे कि खुद भगवान शिव ने अघोरपंत को प्रतिपादित किया था।